खेल वीडियो प्रसारण नेटवर्क

खेल वीडियो प्रसारण नेटवर्क

time:2021-10-29 01:20:32 वित्तीय लक्ष्‍यों तक जल्दी पहुंचने के लिए इक्विटी या डेट फंड में से किसमें निवेश करें? Views:4591

नवीनतम विश्व फुटबॉल खेल वीडियो प्रसारण नेटवर्क betway जमा प्रतिबिंबित नहीं कर रहा है,fun88 न्यूकैसल यूनाइटेड,lovebet 40 मुफ्त दांव,lovebet इतिहास,lovebet ता उत पेंगार,1xबिट,बैकरेट एल्गोरिथम,बैकरेट ऑनलाइन एजेंसी वेबसाइट,सर्वश्रेष्ठ लाइव ब्लैकजैक वेबसाइटें,पुस्तक डायनेमोस क्रिकेट,कैसीनो राजा,शतरंज एक पासेंट,क्रिकेट बुक डीलर यूके,क्रिकेट एक्स ऐप डाउनलोड,यूरोपीय सट्टेबाजी की संभावनाएं,फुटबॉल बैकअप नेट,जी शतरंज खिलाड़ी,खुश किसान उर्वरक,मैं कैसीनो ऑनलाइन,जे स्पोर्ट्स 1,ला शतरंज सीढ़ी,लाइव कैसीनो शादी,लॉटरी का परिणाम,लूडो वर्ल्ड एपीके,ऑनलाइन कैश बोर्ड गेम,ऑनलाइन गेम भूकंप,वर्जीनिया में ऑनलाइन स्लॉट,जिन रम्मी में बिंदु मूल्य,पोकर युद्ध यूट्यूब,रूले लघुगणक सहायक,रम्मी सर्कल मोबाइल ऐप डाउनलोड,रम्मीकल्चर xxl,स्लॉट साम्राज्य प्रोमो कोड,खेल समाचार पत्र,तीन पत्ती पैसा कमाओ,बैकारेट जीतने की दर की कुंजी,आभासी क्रिकेट एपीआई,वाइल्डज़ कैसीनो जमा,football का इतिहास,करीना छत्तीसगढ़ी,क्रिकेट मैच आज लाइव स्कोर,चैस डाउनलोड,परिवार quotes in marathi,बरसात बॉबी देओल ट्विंकल खन्ना,रमी बाई का भजन,स्टेटस दर्द भरे, .वित्तीय लक्ष्‍यों तक जल्दी पहुंचने के लिए इक्विटी या डेट फंड में से किसमें निवेश करें?

आप जो एसेट क्‍लास चुनते हैं, वह उस लक्ष्‍य पर निर्भर करता है जिसके लिए आप निवेश कर रहे हैं.
वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए अपनी बचत को सही एसेट क्लास में निवेश करना जरूरी है. इन लक्ष्‍यों में बच्‍चों की शिक्षा, घर खरीदना, रिटायरमेंट इत्‍यादि शामिल हैं. लंबी अवधि में एसेट बनाने में दो एसेट क्‍लास - इक्विटी और डेट अहम भूमिका निभाते हैं. हालांकि, आप पूछें कि अपने लक्ष्‍यों को जल्‍दी से पाने के लिए इक्विटी और डेट फंड में से बेहतर कौन है तो जवाब शायद आसान नहीं होगा. सच तो यह है कि इन दोनों का कॉम्बिनेशन और सही इस्तेमाल लक्ष्‍यों को पाने में मदद करेगा.

आप जो एसेट क्‍लास चुनते हैं, वह उस लक्ष्‍य पर निर्भर करता है जिसके लिए आप निवेश कर रहे हैं. यह फैसला आपकी उम्र, जोखिम लेने की क्षमता और बाजार की स्थितियों से भी तय होता है.

इसे भी पढ़ें : बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

अगर आप युवा (20 के पड़ाव में) हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत शुरू करना चाहते हैं तो आपका निवेश इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में ज्‍यादा होना चाहिए. इक्विटी म्‍यूचुअल फंड अपने एसेट का 65 फीसदी इक्विटी या अन्‍य संबंधित प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं. लंबी अवधि में इक्विटी में अन्‍य एसेट क्‍लास के मुकाबले बेहतर रिटर्न पैदा करने की क्षमता होती है. साथ ही जब आप लंबी अवधि जैसे 10 साल या इससे ज्‍यादा के लिए इक्विटी में निवेश करते हैं तो अस्थिरता को जोखिम भी घटता है. ऐसे में 20 के पड़ाव में जो लोग हैं, उन्‍हें अपनी बचत का 80 फीसदी इक्विटी फंड में सिप के जरिये निवेश करना चाहिए अगर वे अपने रिटायरमेंट के लिए बचत कर रहे हैं.

लेकिन, आप 50 के पड़ाव में हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत कर रहे हैं तो आप इक्विटी में इतना भारी-भरकम निवेश नहीं कर सकते हैं. उस स्थिति में कोई अपनी बचत का 25 फीसदी से 40 फीसदी इक्विटी में निवेश कर सकता है. यह उनकी जोखिम लेने की क्षमता पर निर्भर करता है.

रिटायरमेंट के बाद भी इक्विटी म्‍यूचुअल फंडों में कुछ पैसा लगाए रहना चाहिए. यह महंगाई के असर को कम करता है. चूंकि एफडी और डेट प्रोडक्‍टों पर मौजूदा कम ब्‍याज दर के माहौल में रिटर्न घटा है. ऐसे में इक्विटी का कुछ निवेश इसकी भरपाई कर सकता है.

इसे भी पढ़ें : यूलिप और म्यूचुअल फंड में इन 5 बड़े अंतरों को जान लें, होगा फायदा

अगर आइडिया पूंजी की सुरक्षा है न कि ज्‍यादा रिटर्न तो डेट फंड सही विकल्‍प हैं. डेट फंडों में अस्थिरता कम होती है. हालांकि, रिटर्न कम होता है. डेट फंड कैटेगरी के भीतर भी अलग-अलग अस्थिरता और रिस्‍क प्रोफाइल वाले फंड होते हैं. लॉन्‍ग टर्म डेट फंड मुख्‍य रूप से लंबी अवधि के सरकारी बॉन्‍डों में निवेश करते हैं. कॉरपोरेट बॉन्ड फंड अर्थव्यवस्था में ब्‍याज दर के फ्लक्‍चुएशन को लेकर बहुत संवेदनशील होते हैं.

हालांकि, शॉर्ट-टर्म डेट फंड ब्‍याज दर के फ्लक्चुएशन को लेकर कम संवेदनशील होते हैं. कारण है कि ये छोटी अवधि के डेट इंस्‍ट्रूमेंट जैसे ट्रेजरी बिल, कमर्शियल पेपर इत्यादि में निवेश करते हैं. इस तरह के फंड उन लक्ष्‍यों के लिए मुफीद होते हैं जो एक से तीन साल दूर हैं. वहीं, इमर्जेंसी फंड बनाने जैसे बहुत छोटी अवधि के लक्ष्‍यों के लिए लिक्विड फंड या ओवरनाइट फंड उपयुक्‍त विकल्‍प हैं.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

डेट फंडइक्विटी फंडरिटायरमेंटएसेट क्‍लासवित्‍तीय लक्ष्‍य

ETPrime stories of the day

Two’s company, three’s a cloud: the haze of Srei’s curious transactions with a trio of businessmen
Under the lens

Two’s company, three’s a cloud: the haze of Srei’s curious transactions with a trio of businessmen

6 mins read
As crude likely to hit 2008 highs, get ready to fork out INR150 for a litre of petrol
Oil prices

As crude likely to hit 2008 highs, get ready to fork out INR150 for a litre of petrol

7 mins read
3 Idiots clicked right, but India needs its own Samsung and Squid Game to hook global audience
Brands

3 Idiots clicked right, but India needs its own Samsung and Squid Game to hook global audience

12 mins read

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.बाजार नियामक सेबी ने एक्सपेंस रेशियो की सीमा तय की हुई है. ओपन एंडेड इक्विटी स्कीम के एयूएम के आधार पर सेबी ने विभिन्न स्‍लैब बनाए हैं.हीरो मोटर्स, यामाहा ने ई-साइकिल की मोटर बनाने के लिए संयुक्त उद्यम बनाया

अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) बाजार नियामक सेबी ने बृहस्पतिवार को शेयर ब्रोकरों से कोष के निर्बाध निपटान और ग्राहकों की सुविधा के लिए उचित संख्या में बैंकों में चालू खाते रखने को कहा। शेयर ब्रोकरों से होने वाली दिक्कतों के बारे में सेबी को सूचना मिलने के बाद यह स्पष्टीकरण आया है। उन्होंने नियामक से ब्रोकरों को यह निर्देश जारी करने का अनुरोध किया था कि कई बैंकों में चालू खाते रखे जाएं। सेबी ने एक परिपत्र में कहा, ‘‘यह स्पष्ट किया जाता है कि शेयर ब्रोकरों को निपटान उद्देश्यों (निपटान खाता) हेतु ग्राहक निधि (क्लाइंट खाता) रखने के लिएसेबी ने शेयर ब्रोकरों से कहा, कोष के निर्बाध निपटान के लिए उचित संख्या में चालू खाते रखें

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.चेन्नई 28 अक्टूबर (भाषा) इंडियन बैंक ने बृहस्पतिवार को बताया कि जुलाई-सितंबर, 2021 तिमाही में एकल आधार पर उसका शुद्ध लाभ बढ़कर 1,089.17 करोड़ रुपये हो गया। एक साल पहले की इसी अवधि में बैंक का शुद्ध लाभ 412.28 करोड़ रुपये था। चेन्नई मुख्यालय वाले सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक ने बताया कि चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में एकल आधार पर उसका शुद्ध लाभ भी बढ़कर 2,270.83 करोड़ रुपये हो गया। इससे पिछले वित्त वर्ष की इसी अवधि में यह 781.54 करोड़ रुपये था। बैंक को तीस सितंबर, 2021 को समाप्त तिमाही में एकल आधार पर कुल 11,440.41 करोड़सेबी ने शेयर ब्रोकरों से कहा, कोष के निर्बाध निपटान के लिए उचित संख्या में चालू खाते रखें

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
स्टैंड-अलोन गेम बैकारेट

सक्रिय रूप से मैनेज किए जाने वाले लार्ज कैप म्‍यूचुअल फंड के तौर-तरीकों का पिछले कुछ सालों में सभी को पता लग गया है. कुछ को छोड़ ज्यादातर स्कीमों ने प्रमुख सूचकांकों से कमतर प्रदर्शन किया है.

सड़क देखने के लिए बैकरेट खेल

अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है.

लाइव लाठी जर्मनी

मुंबई, 28 अक्टूबर (भाषा) महामारी के बावजूद भारतीयों ने 2020 में दूसरे देशों को धन भेजने के लिए विदेशी मुद्रा विनियम शुल्क के रूप में 26,300 करोड़ रुपये का भुगतान किया। लंदन शेयर बाजार में सूचीबद्ध कंपनी वाइज ने एक अध्ययन में यह कहा है। धन प्रेषण से जुड़ी प्रौद्योगिकी क्षेत्र की कंपनी वाइज ने बृहस्पतिवार को बताया कि इसमें से 9,700 करोड़ रुपये केवल ‘‘छिपे हुए’’ मार्कअप (विनिमय दर से अतिरिक्त ली जाने वाली राशि) शुल्क के रूप में थे। इस तरह भारतीयों को 2020 में 26,300 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ, जबकि 2016 में यह आंकड़ा 18,700 करोड़

होकी १८८बेट

इंदौर, 28 अक्टूबर (भाषा) स्थानीय संयोगिता गंज अनाज मंडी में बृहस्पतिवार को चना कांटा 25 रुपये और मसूर के भाव में 50 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि हुई। मसूर की दाल 50 रुपये एवं तुअर (अरहर) की दाल 100 रुपये प्रति क्विंटल महंगी बिकी।दलहन चना (कांटा) 5100 से 5150,मसूर 7200 से 7250,तुअर (अरहर) निमाड़ी 5300 से 6100, तुअर सफेद (महाराष्ट्र) 6300 से 6400, तुअर (कर्नाटक) 6500 से 6700,मूंग 6900 से 7200, मूंग हल्की 6100 से 6500,उड़द 7000 से 7300, उड़द नया 5500 से 6500, उड़द हल्की 2500 से 4500 रुपये प्रति क्विंटल।दालतुअर (अरहर) दाल सवा नंबर 8600 से 8700,तुअर

खेल ओलंपिक 2021

शेयरों में निवेश से जुड़े जोखिम के अलावा इंटरनेशनल फंड में निवेश से करेंसी का जोखिम भी जुड़ा होता है. दूसरे देश की मुद्रा के मुकाबले रुपये में कमजोरी और मजबूती का असर आपके रिटर्न पर पड़ता है.

संबंधित जानकारी
casumo सैन क्वेंटिन

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) प्रौद्योगिकी कंपनी हनीवेल ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने मरीजों के लिए रियल टाइम स्वास्थ्य निगरानी प्रणाली (आरटीएचएमएस) पेश की है। यह प्रणाली एक स्मार्ट एज-टू-क्लाउड संचार मंच है, जो मरीज और उसकी देखभाल करने वाले के बीच एक सेतु का काम करती है। यह प्रणाली मरीजों की बेहतर देखभाल, स्वास्थ्य कर्मियों की उत्पादकता बढ़ाने एवं प्रक्रिया दक्षता को सक्षम करने के लिए हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को एकीकृत करती है। आरटीएचएमएस महत्वपूर्ण कार्यों को डिजिटल और स्वचालित करके, अस्पताल के प्रशासनिक कार्यों को 35 प्रतिशत तक कम कर सकता है। हनीवेल सेफ्टी एंड प्रोडक्टिविटी सॉल्यूशंस इंडिया

गरम जानकारी
लॉटरी 787

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) प्रौद्योगिकी कंपनी हनीवेल ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने मरीजों के लिए रियल टाइम स्वास्थ्य निगरानी प्रणाली (आरटीएचएमएस) पेश की है। यह प्रणाली एक स्मार्ट एज-टू-क्लाउड संचार मंच है, जो मरीज और उसकी देखभाल करने वाले के बीच एक सेतु का काम करती है। यह प्रणाली मरीजों की बेहतर देखभाल, स्वास्थ्य कर्मियों की उत्पादकता बढ़ाने एवं प्रक्रिया दक्षता को सक्षम करने के लिए हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को एकीकृत करती है। आरटीएचएमएस महत्वपूर्ण कार्यों को डिजिटल और स्वचालित करके, अस्पताल के प्रशासनिक कार्यों को 35 प्रतिशत तक कम कर सकता है। हनीवेल सेफ्टी एंड प्रोडक्टिविटी सॉल्यूशंस इंडिया

उत्पत्ति कैसीनो जुआ आयोग

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) प्रौद्योगिकी कंपनी हनीवेल ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने मरीजों के लिए रियल टाइम स्वास्थ्य निगरानी प्रणाली (आरटीएचएमएस) पेश की है। यह प्रणाली एक स्मार्ट एज-टू-क्लाउड संचार मंच है, जो मरीज और उसकी देखभाल करने वाले के बीच एक सेतु का काम करती है। यह प्रणाली मरीजों की बेहतर देखभाल, स्वास्थ्य कर्मियों की उत्पादकता बढ़ाने एवं प्रक्रिया दक्षता को सक्षम करने के लिए हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को एकीकृत करती है। आरटीएचएमएस महत्वपूर्ण कार्यों को डिजिटल और स्वचालित करके, अस्पताल के प्रशासनिक कार्यों को 35 प्रतिशत तक कम कर सकता है। हनीवेल सेफ्टी एंड प्रोडक्टिविटी सॉल्यूशंस इंडिया