रूले का उच्चारण कैसे करें

रूले का उच्चारण कैसे करें

time:2021-10-29 01:18:17 वित्तीय लक्ष्‍यों तक जल्दी पहुंचने के लिए इक्विटी या डेट फंड में से किसमें निवेश करें? Views:4591

ब्लू रश फिशिंग चार्टर्स रूले का उच्चारण कैसे करें 10cric प्रोमो कोड,casumo फेसबुक,लियोवेगास एक दोस्त को देखें,lovebet कैश आउट,lovebet समाचार,lovebet जैक्स,अनु स्पोर्ट्स राजपुरा पंजाबी,बैकारेट पूर्वानुमान सॉफ्टवेयर,बैकरेट अल्टीमेट क्रैक,सट्टेबाजी कन्नड़ अर्थ,कैसीनो या कनाडा,कैसीनो ब्रह्मांड,क्लासिक रम्मी रियल कैश ऐप,क्रिकेट का,ई स्पोर्ट्स कुन अगुएरो,यूरोपीय बाधाओं के विचार,फुटबॉल नेट ट्रायल अकाउंट,उत्पत्ति कैसीनो राय,फ़ुटबॉल पूर्णकालिक कब तक है,आईपीएल लाइव मैच 2021,जैकपॉट तेलुगु मूवीरुल्ज़,लाइव लाठी नियम,लिवरपूल रम्मी हैंड्स,लॉटरी कल रात परिणाम,एनबीए बास्केटबॉल वेबसाइट एनबीए विश्लेषण नेटवर्क,ऑनलाइन कैसीनो vklad cez sms,ऑनलाइन पोकर नौकरियां,पैरिमैच ग्लोबल,पोकर मैं मुश्किल से उसके मूल को जानता हूँ,यूरोपीय सट्टेबाजों की रैंकिंग,4 . से विभाज्यता का नियम,रम्मी वेरिएंट हैक,स्लॉट मशीन जैकपॉट ध्वनि,खेल 52 पहनें,स्पोर्ट्सबुक इंडिया,टेक्सास होल्डम कुरलालरı,दुनिया में शीर्ष दस कैसीनो,वर्चुअल क्रिकेट क्या है?,xfinity लाइव कैसीनो पार्किंग,ई-स्पोर्ट्स क्विज,क्रिकेट 7 बच्चे,गोवा खाने से क्या फायदा,डिलीट account,फुटबॉल सट्टेबाजी कंपनी,बेटा रोहित,लॉटरी दिखाएं,हैप्पी न्यू ईयर ऑफ द पिग .वित्तीय लक्ष्‍यों तक जल्दी पहुंचने के लिए इक्विटी या डेट फंड में से किसमें निवेश करें?

आप जो एसेट क्‍लास चुनते हैं, वह उस लक्ष्‍य पर निर्भर करता है जिसके लिए आप निवेश कर रहे हैं.
वित्तीय लक्ष्यों को पूरा करने के लिए अपनी बचत को सही एसेट क्लास में निवेश करना जरूरी है. इन लक्ष्‍यों में बच्‍चों की शिक्षा, घर खरीदना, रिटायरमेंट इत्‍यादि शामिल हैं. लंबी अवधि में एसेट बनाने में दो एसेट क्‍लास - इक्विटी और डेट अहम भूमिका निभाते हैं. हालांकि, आप पूछें कि अपने लक्ष्‍यों को जल्‍दी से पाने के लिए इक्विटी और डेट फंड में से बेहतर कौन है तो जवाब शायद आसान नहीं होगा. सच तो यह है कि इन दोनों का कॉम्बिनेशन और सही इस्तेमाल लक्ष्‍यों को पाने में मदद करेगा.

आप जो एसेट क्‍लास चुनते हैं, वह उस लक्ष्‍य पर निर्भर करता है जिसके लिए आप निवेश कर रहे हैं. यह फैसला आपकी उम्र, जोखिम लेने की क्षमता और बाजार की स्थितियों से भी तय होता है.

इसे भी पढ़ें : बुजुर्गों को मिले ज्‍यादा ब्‍याज, एससीएसएस की लिमिट बढ़ाकर ₹50 लाख की जाए

अगर आप युवा (20 के पड़ाव में) हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत शुरू करना चाहते हैं तो आपका निवेश इक्विटी म्‍यूचुअल फंड में ज्‍यादा होना चाहिए. इक्विटी म्‍यूचुअल फंड अपने एसेट का 65 फीसदी इक्विटी या अन्‍य संबंधित प्रतिभूतियों में निवेश करते हैं. लंबी अवधि में इक्विटी में अन्‍य एसेट क्‍लास के मुकाबले बेहतर रिटर्न पैदा करने की क्षमता होती है. साथ ही जब आप लंबी अवधि जैसे 10 साल या इससे ज्‍यादा के लिए इक्विटी में निवेश करते हैं तो अस्थिरता को जोखिम भी घटता है. ऐसे में 20 के पड़ाव में जो लोग हैं, उन्‍हें अपनी बचत का 80 फीसदी इक्विटी फंड में सिप के जरिये निवेश करना चाहिए अगर वे अपने रिटायरमेंट के लिए बचत कर रहे हैं.

लेकिन, आप 50 के पड़ाव में हैं और रिटायरमेंट के लिए बचत कर रहे हैं तो आप इक्विटी में इतना भारी-भरकम निवेश नहीं कर सकते हैं. उस स्थिति में कोई अपनी बचत का 25 फीसदी से 40 फीसदी इक्विटी में निवेश कर सकता है. यह उनकी जोखिम लेने की क्षमता पर निर्भर करता है.

रिटायरमेंट के बाद भी इक्विटी म्‍यूचुअल फंडों में कुछ पैसा लगाए रहना चाहिए. यह महंगाई के असर को कम करता है. चूंकि एफडी और डेट प्रोडक्‍टों पर मौजूदा कम ब्‍याज दर के माहौल में रिटर्न घटा है. ऐसे में इक्विटी का कुछ निवेश इसकी भरपाई कर सकता है.

इसे भी पढ़ें : यूलिप और म्यूचुअल फंड में इन 5 बड़े अंतरों को जान लें, होगा फायदा

अगर आइडिया पूंजी की सुरक्षा है न कि ज्‍यादा रिटर्न तो डेट फंड सही विकल्‍प हैं. डेट फंडों में अस्थिरता कम होती है. हालांकि, रिटर्न कम होता है. डेट फंड कैटेगरी के भीतर भी अलग-अलग अस्थिरता और रिस्‍क प्रोफाइल वाले फंड होते हैं. लॉन्‍ग टर्म डेट फंड मुख्‍य रूप से लंबी अवधि के सरकारी बॉन्‍डों में निवेश करते हैं. कॉरपोरेट बॉन्ड फंड अर्थव्यवस्था में ब्‍याज दर के फ्लक्‍चुएशन को लेकर बहुत संवेदनशील होते हैं.

हालांकि, शॉर्ट-टर्म डेट फंड ब्‍याज दर के फ्लक्चुएशन को लेकर कम संवेदनशील होते हैं. कारण है कि ये छोटी अवधि के डेट इंस्‍ट्रूमेंट जैसे ट्रेजरी बिल, कमर्शियल पेपर इत्यादि में निवेश करते हैं. इस तरह के फंड उन लक्ष्‍यों के लिए मुफीद होते हैं जो एक से तीन साल दूर हैं. वहीं, इमर्जेंसी फंड बनाने जैसे बहुत छोटी अवधि के लक्ष्‍यों के लिए लिक्विड फंड या ओवरनाइट फंड उपयुक्‍त विकल्‍प हैं.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

डेट फंडइक्विटी फंडरिटायरमेंटएसेट क्‍लासवित्‍तीय लक्ष्‍य

ETPrime stories of the day

Two’s company, three’s a cloud: the haze of Srei’s curious transactions with a trio of businessmen
Under the lens

Two’s company, three’s a cloud: the haze of Srei’s curious transactions with a trio of businessmen

6 mins read
As crude likely to hit 2008 highs, get ready to fork out INR150 for a litre of petrol
Oil prices

As crude likely to hit 2008 highs, get ready to fork out INR150 for a litre of petrol

7 mins read
3 Idiots clicked right, but India needs its own Samsung and Squid Game to hook global audience
Brands

3 Idiots clicked right, but India needs its own Samsung and Squid Game to hook global audience

12 mins read

इंदौर, 28 अक्टूबर (भाषा) स्थानीय सियागंज किराना बाजार में बृहस्पतिवार को हल्दी और खोपरा गोला में ग्राहकी बढ़िया रही। कारोबारी सूत्रों के मुताबिक शक्कर में आठ गाड़ी की आवक हुई।शक्कर- गुड़शक्कर 3720 से 3760, शक्कर (एम) 3800 से 3825 रुपये प्रति क्विंटल।गुड़ भेली 3750 से 3800, गुड़ कटोरा 4100 से 4150, गुड़ लड्डू 4300 से 4350 रुपये प्रति क्विंटल।खोपरा गोला खोपरा गोला 210 से 230 रुपये प्रति किलोग्राम।खोपरा बूरा 2650 से 3700 रुपये प्रति 15 किलोग्राम।हल्दी हल्दी (खड़ी) सांगली 159 से 160, हल्दी (खड़ी) निजामाबाद 110 से 130, पिसी हल्दी 165 से 185 रुपये प्रति किलोग्राम।साबूदानासाबूदाना 4400नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) पेटीएम ब्रांड के तहत काम करने वाली डिजिटल कंपनी वन97 कॉम्युनिकेशंस ने बृहस्पतिवार को कहा कि पेटीएम का आरंभिक सार्वजनिक निर्गम आवेदन के लिये आठ नवंबर को खुलेगा। इसके लिये कीमत दायरा 2,080-2,150 रुपये तय किया गया है। इसके आधार पर कंपनी का मूल्यांकन करीब 1.48 लाख करोड़ रुपये बैठता है। आरंभिक सार्वजनिक निर्गम (आईपीओ) के लिये आवेदन 10 नवंबर तक दिये जा सकेंगे। कोल इंडिया के 2010 में आईपीओ के बाद 18,300 करोड़ रुपये का यह निर्गम देश में सबसे बड़ा होगा। सरकारी स्वामित्व वाली कंपनी ने आईपीओ से 15,200 करोड़ रुपये जुटाए थे।एनपीएस में निवेश की उम्र सीमा बढ़कर हो सकती है 70 साल!

मुंबई, 28 अक्टूबर (भाषा) सूचना प्रौद्योगिकी कंपनी विप्रो के संस्थापक अजीम प्रेमजी ने वित्त वर्ष 2020-21 में कुल 9,713 करोड़ रुपये यानी 27 करोड़ रुपये प्रतिदिन का दान दिया। इसके साथ उन्होंने परमार्थ कार्य करने वाले भारतीयों के बीच अपना शीर्ष स्थान बरकरार रखा। एडेलगिव हुरुन इंडिया फिलैंथ्रोपी लिस्ट 2021 के अनुसार, महामारी से प्रभावित वर्ष के दौरान प्रेमजी ने अपने दान में लगभग एक चौथाई की वृद्धि की। उनके बाद एचसीएल के शिव नाडर दूसरे स्थान पर थे, जिन्होंने परमार्थ कार्यों के लिए 1,263 करोड़ रुपये का दान दिया। एशिया के सबसे धनी व्यक्ति और रिलायंस इंडस्ट्रीज के प्रमुख मुकेशनयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) इफको किसान संचार लिमिटेड ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने राष्ट्रपति भवन को अपनी माई अर्बन ग्रीन्स पहल के तहत 8,095 औषधीय और सजावटी पौधों की आपूर्ति की है। इफको किसान संचार लिमिटेड का प्रमुख ब्रांड माई अर्बन ग्रीन्स शहरी बागवानी समाधान प्रदान करता है। जैसे छत पर खेती, लंबवत उद्यान, परिदृश्य विकास और उद्यान रखरखाव सेवाएं। कंपनी विभिन्न प्रकार के इनडोर प्लांट्स, फ्लावरपॉट्स और गार्डनिंग एक्सेसरीज के कॉरपोरेट गिफ्टिंग कारोबार में भी है। इफको किसानसिप टॉप-अप फैसिलिटी के बारे में यहां जानिए अपने हर सवाल का जवाब

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) बाजार नियामक सेबी ने बृहस्पतिवार को शेयर ब्रोकरों से कोष के निर्बाध निपटान और ग्राहकों की सुविधा के लिए उचित संख्या में बैंकों में चालू खाते रखने को कहा। शेयर ब्रोकरों से होने वाली दिक्कतों के बारे में सेबी को सूचना मिलने के बाद यह स्पष्टीकरण आया है। उन्होंने नियामक से ब्रोकरों को यह निर्देश जारी करने का अनुरोध किया था कि कई बैंकों में चालू खाते रखे जाएं। सेबी ने एक परिपत्र में कहा, ‘‘यह स्पष्ट किया जाता है कि शेयर ब्रोकरों को निपटान उद्देश्यों (निपटान खाता) हेतु ग्राहक निधि (क्लाइंट खाता) रखने के लिएनयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) इफको किसान संचार लिमिटेड ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने राष्ट्रपति भवन को अपनी माई अर्बन ग्रीन्स पहल के तहत 8,095 औषधीय और सजावटी पौधों की आपूर्ति की है। इफको किसान संचार लिमिटेड का प्रमुख ब्रांड माई अर्बन ग्रीन्स शहरी बागवानी समाधान प्रदान करता है। जैसे छत पर खेती, लंबवत उद्यान, परिदृश्य विकास और उद्यान रखरखाव सेवाएं। कंपनी विभिन्न प्रकार के इनडोर प्लांट्स, फ्लावरपॉट्स और गार्डनिंग एक्सेसरीज के कॉरपोरेट गिफ्टिंग कारोबार में भी है। इफको किसाननियमित आमदनी के लिए इन पांच विकल्प में निवेश कर सकते हैं सीनियर सिटीजन

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
छह का नियम

इंदौर, 28 अक्टूबर (भाषा) स्थानीय सियागंज किराना बाजार में बृहस्पतिवार को हल्दी और खोपरा गोला में ग्राहकी बढ़िया रही। कारोबारी सूत्रों के मुताबिक शक्कर में आठ गाड़ी की आवक हुई।शक्कर- गुड़शक्कर 3720 से 3760, शक्कर (एम) 3800 से 3825 रुपये प्रति क्विंटल।गुड़ भेली 3750 से 3800, गुड़ कटोरा 4100 से 4150, गुड़ लड्डू 4300 से 4350 रुपये प्रति क्विंटल।खोपरा गोला खोपरा गोला 210 से 230 रुपये प्रति किलोग्राम।खोपरा बूरा 2650 से 3700 रुपये प्रति 15 किलोग्राम।हल्दी हल्दी (खड़ी) सांगली 159 से 160, हल्दी (खड़ी) निजामाबाद 110 से 130, पिसी हल्दी 165 से 185 रुपये प्रति किलोग्राम।साबूदानासाबूदाना 4400

कैसीनो डॉट कॉम ऑनलाइन

ब्‍याज दरों में कटौती का फैसला वापस होने के बाद एक सामान्‍य धारणा बनी. वह यह थी कि चुनावों को देखते हुए यह फैसला लिया गया.

खेल के जूते चल रहे हैं

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) प्रतिष्ठित आर्थिक शोध संस्थान एनसीएईआर ने बृहस्पतिवार को कहा कि अर्थव्यवस्था में तीव्र पुनरूद्धार के संकेत हैं। ज्यादातर क्षेत्र महामारी से पहले के स्तर पर पहुंचने वाले हैं और उससे आगे निकलने को तैयार हैं। नेशनल काउंसिल फॉर एप्लाइड इकनॉमिक रिसर्च (एनसीएईआर) ने अर्थव्यवस्था की अपनी मासिक समीक्षा में कहा, ‘‘अनुमान से बेहतर राजकोषीय नतीजों, ज्यादातर उच्च-आवृत्ति संकेतकों (जीएसटी संग्रह, बिजली खपत, माल ढुलाई आदि) में उछाल और एयर इंडिया के निजीकरण समेत नीतिगत सुधारों से आर्थिक खबरें अनुकूल हैं।’’ समीक्षा में कहा गया कि टीकाकरण में तेजी और कोविड-19 संक्रमण में गिरावट के साथ आर्थिक

21 बजे paijaniya

वित्त वर्ष 2020-21 में घरेलू म्यूचुअल फंड इंडस्ट्री का एसेट अंडर मैनेजमेंट (एयूएम) 41 फीसदी बढ़कर 31.43 लाख करोड़ रुपये तक पहुंचई गई.

फुटबॉल खेलने के नियम

नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने की कई कोशिश की जा रही है.

संबंधित जानकारी
o pokerstars manipula as cartas

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) प्रतिष्ठित आर्थिक शोध संस्थान एनसीएईआर ने बृहस्पतिवार को कहा कि अर्थव्यवस्था में तीव्र पुनरूद्धार के संकेत हैं। ज्यादातर क्षेत्र महामारी से पहले के स्तर पर पहुंचने वाले हैं और उससे आगे निकलने को तैयार हैं। नेशनल काउंसिल फॉर एप्लाइड इकनॉमिक रिसर्च (एनसीएईआर) ने अर्थव्यवस्था की अपनी मासिक समीक्षा में कहा, ‘‘अनुमान से बेहतर राजकोषीय नतीजों, ज्यादातर उच्च-आवृत्ति संकेतकों (जीएसटी संग्रह, बिजली खपत, माल ढुलाई आदि) में उछाल और एयर इंडिया के निजीकरण समेत नीतिगत सुधारों से आर्थिक खबरें अनुकूल हैं।’’ समीक्षा में कहा गया कि टीकाकरण में तेजी और कोविड-19 संक्रमण में गिरावट के साथ आर्थिक

गरम जानकारी