फुटबॉल रोनाल्डो

फुटबॉल रोनाल्डो

time:2021-10-29 02:13:03 सिप में क्यों करना चाहिए लंबे समय तक निवेश Views:4591

शीर्ष १० ऑनलाइन सट्टेबाजी फुटबॉल रोनाल्डो betway केन्या,fun88.vip 1,lovebet 60 सेकंड,lovebet जैकपॉट भविष्यवाणी,lovebet ट्रांग चो,365 फुटबॉल स्पेयर,बैकरेट सट्टेबाजी एजेंट मंच,बैकरेट संभाव्यता विश्लेषण,सीबीएसई कक्षा 12 . के लिए पांच नियमों में से सर्वश्रेष्ठ,कालेब रश फिशिंग गाइड,कैसीनो नेपाल,शतरंज ओ केली,मेरे पास क्रिकेट क्लब,डी कैसीनो,यूरोपीय कप फुटबॉल मकाऊ प्लेट,फुटबॉल कमेंटेटर,जुआ खेल मशीन पक्षी और जानवर,खुश किसान पियानो ग्रेड 4,Android के लिए indiabet apk डाउनलोड करें,जैकपॉट निदेशक,नवीनतम शतरंज रैंकिंग,लाइव फोटो रूले कोड,लॉटरी एनसी,एम.लवबेट 365,ऑनलाइन कैसीनो यूरोपीय संघ,ऑनलाइन गेम यूट्यूब,ऑनलाइन स्लॉट असली पैसा कनाडा,पोकर 6+,पोकर जिंगा ऑनलाइन,रूले रणनीति 00/दिन,रमी तत्काल नकद,सबा स्पेयर,स्लॉट मैप डिवाइस,खेल रविवार,तीन पत्ती ऑक्टो डाउनलोड,लवबेटेप,आभासी क्रिकेट स्कोरबोर्ड,विलियम हिल ऑड्स सिस्टम,sports कीड़ा,कुसुम yojana,खेल लॉटरी facebook,जैकेट बताओ,पोकर नियम,बेटवे लॉगिन,रूले मेज,स्टेटस यादव वाला, .सिप में क्यों करना चाहिए लंबे समय तक निवेश

न्यूनतम निवेश की सीमा का कम होना, इंवेस्टमेंट में अनुशासन, रुपए की औसत लागत, कम्पाउडिंग की ताकत सिप में निवेश के प्रमुख फायदों में शामिल हैं.
जुजेर गबाजीवाला, निदेश, वेंचुरा सिक्योरिटीज


अधिकतर निवेशक इक्विटी फंड्स में निवेश करने के लिए सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान (सिप) को तरजीह देते हैं. हाल के समय में सिप को बहुत अधिक लोकप्रियता मिली है. इसकी वजह है कि इसके कई तरह के आम फायदों के बारे में लोग अवगत हो गए हैं.

न्यूनतम निवेश की सीमा का कम होना, इंवेस्टमेंट में अनुशासन, रुपए की औसत लागत, कम्पाउडिंग की ताकत सिप में निवेश के प्रमुख फायदों में शामिल हैं. साथ ही ज्यादा फायदा हासिल करने के लिए या घाटा कम करने के लिए मार्केट को टाइम करने की जरूरत नहीं होती है. मार्च, 2021 में सिप कलेक्शन 9,182 करोड़़ रुपये पर रहा.

यह सालाना आधार पर 6.3 फीसद की वृद्धि को दिखाता है. यह आंकड़ा इस बात को दिखाता है कि अधिक-से-अधिक निवेशक निवेश के लिए सिप का रुख कर रहे हैं. निवेशक जितने लंबे समय तक निवेश करेंगे, उन्हें उतना अधिक फायदा होगा. सिप में निवेश करने वाले निवेशकों को नीचे उल्लेखित बिंदुओं को भी ध्यान में रखना चाहिए.

होल्डिंग की औसत अवधि

अगर कोई निवेशक 20 साल तक निवेश करता है तो हर सिप के लिए होल्डिंग की औसत अवधि 10 साल होगी. इसकी वजह यह कि केवल आपकी सिप की पहली किस्त के भुगतान को 20 साल पूरे हुए हैं. वहीं, सिप की आपकी हालिया किस्त को एक महीने भी नहीं पूरा हुआ है.

ऐसे में अगर कोई व्यक्ति 20 साल से निवेश कर रहा है तो भी होल्डिंग की औसत अवधि केवल 10 साल होगी. ऐसे में निवेशक को होल्डिंग की औसत अवधि को ध्यान में रखना चाहिए. इंवेस्टमेंट की शुरुआत से होल्डिंग की अवधि की गणना नहीं करनी चाहिए.

कम्पाउंडिंग की ताकत

सिप के जरिए निवेश करने का एक फायदा यह है कि आप कम्पाउंडिंग की ताकत का लाभ उठा पाते हैं. लंबे समय तक निवेश किस प्रकार फायदेमंद होता है, इसे समझने के लिए आइए देखते हैं कि अलग-अलग अवधि के लिए हर महीने 10 हजार रुपये के निवेश पर कितना रिटर्न हासिल होता है.

juber-1.


हालांकि, निवेशक s के जरिए निवेश करना जारी रखते हैं लेकिन चिंता की बड़ी वजह यह है कि कई निवेशक समय से पहले अपनी s बंद करा देते हैं. समय से पहले निवेश बंद करने वालों में से कई समयावधि पूरी होने से पहले फंड निकाल लेते हैं.

ऐसा सामान्य तौर पर देखा जाता है कि लोग 7-10 साल तक निवेश के लक्ष्य के साथ में निवेश शुरू करते हैं लेकिन तीन-चार साल बाद बीच में ही उसे बंद करा देते हैं. निवेशकों के s में निवेश जारी नहीं रखने की कई वजहें हो सकती हैं. कुछ कारणों पर नीचे चर्चा की गई हैः

शेयर बाजार में उतार-चढ़ाव
आम तौर पर निवेशकों को बताया जाता है कि वे 10-15 साल बाद करीब 12-15 फीसद सालाना की दर से रिटर्न की उम्मीद कर सकते हैं. हालांकि, ये रिटर्न एक समान नहीं होते हैं (इसका मतलब है कि हम हर साल सकारात्मक रिटर्न की उम्मीद नहीं कर सकते हैं, जबकि फिक्स्ड डिपोजिट में हम ऐसा करते हैं.). इसकी वजह यहा है कि इक्विटी फंड्स में पर बाजार के उतार-चढ़ाव का असर पड़ता है.

इस तरह बाजार के ऊपर या नीचे होने से निवेशकों के फायदे में भी उतार-चढ़ाव देखने को मिलता है. इक्विटी फंड्स में निवेश से प्राप्त होने वाला रिटर्न कभी भी एकसमान नहीं होता है. अगर हम पिछले 20 कैलेंडर वर्ष में निफ्टी 50 के रिटर्न को देखें तो यह पता चलता है कि किसी निवेशक को सबसे ज्यादा 78 फीसद (2009) का रिटर्न हासिल हुआ था.

वहीं, -51.8 % (2008) का न्यूनतम रिटर्न प्राप्त हुआ था. इसी तरह बाजार के ऊपर या नीचे होने से रिटर्न पर भी असर देखने को मिलता है. किसी भी निवेशक के लिए इन रिटर्न्स की तुलना फिक्स्ड इनकम वाले फंड से करना सही नहीं होगा.

पा रदर्शिता और रिडेम्शन की आसान प्रक्रिया
म्यूचुअल फंड्स में इस बात को लेकर पारदर्शिता होती है कि किसी निवेशक का पैसा कहां निवेश हो रहा है. फंड्स का NAV दैनिक आधार पर उपलब्ध होता है और फंड्स का पोर्टफोलियो मासिक आधार पर अवेलेबल होता है. यह काफी लाभदायक होता है क्योंकि निवेशकों को इस बात की जानकारी होती है कि उनके रुपये का निवेश कहां हो रहा है.

दूसरी ओर, कई बार इस चीज की वजह से नुकसान भी उठाना पड़ता है क्योंकि कभी-कभी किसी खास कंपनी के बारे में नकारात्मक खबर से निवेशकों में घबराहट पैदा हो जाती है. कई बार तो लोग घबराहट में आकर बिकवाली में लग जाते हैं. बहुत संभव है कि NPS व ULIPS जैसे इंवेस्टमेंट के अन्य इंस्ट्रुमेंट्स में इन सिक्योरिटीज को होल्ड कर लिया जाए लेकिन इससे जुड़ी जानकारी सार्वजनिक तौर पर उपलब्ध नहीं होती है.

म्यूचुअल फंड में आसानी से रिडमेप्शन (भुनाने) की सुविधा भी कई बार ड्रॉबैक (खामी) बन जाती है. चूंकि निवेशक आसानी से अपने निवेश को रिडीम कर सकते हैं इसलिए वे उम्मीद से थोड़ा भी कम रिटर्न देखते ही रिडेम्पशन का विकल्प तलाशने लगते हैं.

रिटर्न्स को लेकर अंसतोष
कई निवेशक अपनी s के रिटर्न से संतुष्ट नहीं होते हैं और सिस्टेमैटिक इंवेस्टमेंट प्लान में निवेश बंद करने का निर्णय करते हैं. निवेशक शुरू करने के एक से दो साल के भीतर उस अवधि में प्राप्त होने वाले रिटर्न का मूल्यांकन करने लगते हैं. इस बिन्दु पर कई निवेशकों को लगता है कि उन्होंने निवेश को लेकर गलत फैसला किया है.

हालांकि, वह इस बात को नहीं समझते हैं कि दो साल की में होल्डिंग की औसत अवधि महज एक साल है. वे अपने निवेश के रिटर्न की तुलना अन्य स्टॉक या यहां तक कि निफ्टी या सेंसेक्स से करने लगते हैं. यह पूरी तरह से सेब और नारंगी के बीच तुलना करने जैसा है लेकिन तात्कालिक अनुभव सही नहीं होने के कारण अधिकतर कुछ और नहीं सुनना चाहते हैं.

कुछ निवेशक यह सोचकर म्यूचुअल फंड्स से कतराने लगते हैं कि उन्हें इन फंड्स में निवेश से बढ़िया रिटर्न नहीं मिलेगा. वहीं, कुछ निवेशक जल्दबाजी में निवेश जारी नहीं रखने का फैसला कर जाते हैं. अगर कोई निवेशक कम समय में निवेश जारी नहीं रखने का फैसला करता है तो वह बाद के वर्षों में होने वाले लाभ से वंचित रह जाता है.

हमारे आंतरिक रिसर्च के मुताबिक इक्विटी फंड्स (ग्रोथ ऑप्शन) में 20 साल पहले (जुलाई, 1999 से पहले) हर माह 10,000 का शुरू करने पर सभी फंड्स का औसत वैल्यू कुछ इस प्रकार होताः


juber-2.

हम ऊपर दी गई सारणी में देख सकते हैं कि अगर एक निवेशक 20 साल तक निवेश करता है तो सबसे अच्छे केस में निवेश में उसे 12.2 गुना और सबसे कमजोर रिटर्न वाले केस में 3.3 गुना रिटर्न हासिल होता है.

उतार-चढ़ाव और निगेटिव रिटर्न की प्रत्याशा (प्रोबेबलिटी)
यह आम तौर पर देखा गया है कि की अवधि बढ़ने पर निगेटिव रिटर्न और उतार-चढ़ाव की प्रत्याशा कम हो जाती है. इस चीज को बेहतर तरीके से समझने के लिए हमने कोटक फ्लैक्सीकैप फंड के उदाहरण पर गौर किया. यह फ्लैक्सी कैप फंड है और 10 साल से ज्यादा समय से मौजूद है. 21 फरवरी की तारीख तक इंडेक्स फंड्स को छोड़कर सभी ओपन-एंडेड इक्विटी फंड्स में इसका एयूएम सबसे ज्यादा है.


juber-3.


लाल रंग से चिह्नित सेल कोविड-19 महामारी के असर को दिखाते हैं, जो बहुत ही दुर्लभ और असाधारण मामला है.

ऊपर दी गई सारणी में हम यह देख सकते हैं कि निवेश की अवधि एक साल होने पर निगेटिव रिटर्न की संभावना बढ़ जाती है. जबकि अवधि के दो साल होते ही निगेटिव रिटर्न की गुंजाइश कम हो जाती है.

वहीं, अगर निवेश की अवधि तीन वर्ष या उससे ज्यादा रहती है तो वर्ष 2017-18 को छोड़कर निगेटिव रिटर्न देखने को नहीं मिलता है. एसआईपी की अवधि पांच साल से ज्यादा होते ही रिटर्न में सुधार देखने को मिलता है.

सिप में सफल निवेश का राज
आप यह समझ गए होंगे कि के जरिए निवेश करने पर आपको मार्केट को टाइम नहीं करना पड़ता है. लेकिन निवेशकों को एसआईपी को इतने लंबे वक्त के लिए अपनाना चाहिए ताकि आपके रिटर्न पर बाजार में तेजी या गिरावट का असर ना पड़े. वारेन बफे ने 11 साल की आयु में निवेश करना शुरू कर दिया था लेकिन 56 साल की आयु के होने के बाद ही वह अरबपति बने.




हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.
(Disclaimer: The opinions expressed in this column are that of the writer. The facts and opinions expressed here do not reflect the views of www.economictimes.com.)

टॉपिक

सिप के जरिए निवेशकोटक म्यूचुअल फंडनिवेशशेयर बाजारम्यूचुअल फंडशेयरों में निवेश

ETPrime stories of the day

Two’s company, three’s a cloud: the haze of Srei’s curious transactions with a trio of businessmen
Under the lens

Two’s company, three’s a cloud: the haze of Srei’s curious transactions with a trio of businessmen

6 mins read
As crude likely to hit 2008 highs, get ready to fork out INR150 for a litre of petrol
Oil prices

As crude likely to hit 2008 highs, get ready to fork out INR150 for a litre of petrol

7 mins read
3 Idiots clicked right, but India needs its own Samsung and Squid Game to hook global audience
Brands

3 Idiots clicked right, but India needs its own Samsung and Squid Game to hook global audience

12 mins read

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) बाजार नियामक सेबी ने बृहस्पतिवार को व्यक्तियों के अलावा निवासी भारतीयों को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) का हिस्सा बनने की इजाजत दी, जो आईएफएससी में वैकल्पिक निवेश कोष (एआईएफ) के रूप में पंजीकृत हैं। इससे अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों (आईएफएससी) में स्थापित एआईएफ द्वारा एफपीआई मार्ग से भारतीय प्रतिभूति बाजारों में निवेश की सुविधा मिल सकेगी। ऐसे निवासी भारतीय एफपीआई के प्रायोजक या प्रबंधक होंगे और एफपीआई में उनका योगदान कुछ शर्तों के अधीन होगा। सेबी ने एक अधिसूचना में कहा, ‘‘व्यक्तियों के अलावा निवासी भारतीय भी आवेदक के घटक हो सकते हैं।’’ हालांकि, इसकेनयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) वाहनों के कल-पुर्जे बनाने वाली हीरो मोटर्स ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने जापान की यामाहा मोटर कंपनी के साथ एक संयुक्त उद्यम समझौता किया है। इसके तहत ई-साइकिल की मोटर बनाने के लिए एक विनिर्माण इकाई की स्थापना की जाएगी। हीरो मोटर्स ने एक बयान में कहा कि दोनों कंपनियों के बोर्ड ने इस समझौते को मंजूरी दे दी है, जिसके तहत वैश्विक बाजारों के लिए ई-साइकिल ड्राइव मोटर बनाने के लिए भारत में एक विनिर्माण इकाई स्थापित की जाएगी। हीरो और यामाहा ने ई-साइकिल खंड में साथ मिलकर काम करने के लिए 2019लगातार अच्‍छा रिटर्न चाहते है? इस फंड में लगा सकते हैं पैसा

नेशनल पेंशन सिस्टम (एनपीएस) में लोगों की दिलचस्पी बढ़ाने की कई कोशिश की जा रही है.नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड ने बृहस्पतिवार को खनन क्षेत्रों के आसपास के गांवों के युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण देने के लिए केंद्रीय पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपेट), भुवनेश्वर के साथ दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए। कोयला मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत इन दो पहलों- ‘उड़ान’ और ‘सहयोग’ से खनन क्षेत्रों के आसपास स्थित गांवों के 40 युवाओं को फिटर / इलेक्ट्रीशियन ट्रेडों में दो साल का पूर्णकालिक आईटीआई प्रशिक्षण और 30 दिव्यांगजनों को छह महीने के कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने में सहायता मिलेगी। महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेडइंडियन बैंक को दूसरी तिमाही में एकल आधार पर 1,089.17 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) इफको किसान संचार लिमिटेड ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने राष्ट्रपति भवन को अपनी माई अर्बन ग्रीन्स पहल के तहत 8,095 औषधीय और सजावटी पौधों की आपूर्ति की है। इफको किसान संचार लिमिटेड का प्रमुख ब्रांड माई अर्बन ग्रीन्स शहरी बागवानी समाधान प्रदान करता है। जैसे छत पर खेती, लंबवत उद्यान, परिदृश्य विकास और उद्यान रखरखाव सेवाएं। कंपनी विभिन्न प्रकार के इनडोर प्लांट्स, फ्लावरपॉट्स और गार्डनिंग एक्सेसरीज के कॉरपोरेट गिफ्टिंग कारोबार में भी है। इफको किसानयूनिट लिंक्ड इंश्‍योरेंस प्‍लान यानी यूलिप और म्यूचुअल फंड कई मायनों में अलग होते हैं. यह और बात है कि कई लोग इन्‍हें एक जैसा प्रोडक्ट समझने की भूल कर बैठते हैं. आपको भी अगर ऐसी गलतफहमी है तो यहां हम इन दोनों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतरों के बारे में बता रहे हैं.प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन की सभी स्कीमों से निकलने की दी सलाह

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
lovebetf.d

यूनिट लिंक्ड इंश्‍योरेंस प्‍लान यानी यूलिप और म्यूचुअल फंड कई मायनों में अलग होते हैं. यह और बात है कि कई लोग इन्‍हें एक जैसा प्रोडक्ट समझने की भूल कर बैठते हैं. आपको भी अगर ऐसी गलतफहमी है तो यहां हम इन दोनों के बीच कुछ महत्वपूर्ण अंतरों के बारे में बता रहे हैं.

7 . से विभाज्य नियम

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) दिल्ली उच्च न्यायालय ने बृहस्पतिवार को भारतीय रिजर्व बैंक और भारतीय स्टेट बैंक (एसबीआई) से उस याचिका पर जवाब मांगा जिसमें अधिकारियों को क्रिप्टोकरेंसी एक्सचेंज, वजीरएक्स में निवेश आदि के लिए यूपीआई (यूनिफाइड पेमेंट्स इंटरफेस) मंच के इस्तेमाल पर प्रतिबंध हटाने का निर्देश देने का आग्रह किया गया है। मुख्य न्यायाधीश डी एन पटेल और न्यायमूर्ति ज्योति सिंह की पीठ ने एसबीआई, रिजर्व बैंक, भारतीय राष्ट्रीय भुगतान निगम और वित्तीय सेवा विभाग को नोटिस जारी कर याचिका पर जवाब देने को कहा है। अदालत ने मामले में अगली सुनवाई 24 दिसंबर को तय की है। याचिकाकर्ता

फुटबॉल के साढ़े छह मैच

प्राइम इंवेस्टर ने निवेशकों को फ्रैंकलिन टेम्पलटन म्यूचुअल फंड की सभी स्कीमों से निकासी करने की सलाह दी है. प्राइम इंवेस्टर चेन्नई की एक स्वतंत्र रिसर्च फर्म है.

fun88 लोगो

हम सीनियर सिटीजन के लिए निवेश के पांच ऐसे विकल्प बता रहे हैं जिससे उनकी मेहनत की कमाई पर अच्छी नियमित आय आती रहे.

पॉप कैंडी 2

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) इफको किसान संचार लिमिटेड ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने राष्ट्रपति भवन को अपनी माई अर्बन ग्रीन्स पहल के तहत 8,095 औषधीय और सजावटी पौधों की आपूर्ति की है। इफको किसान संचार लिमिटेड का प्रमुख ब्रांड माई अर्बन ग्रीन्स शहरी बागवानी समाधान प्रदान करता है। जैसे छत पर खेती, लंबवत उद्यान, परिदृश्य विकास और उद्यान रखरखाव सेवाएं। कंपनी विभिन्न प्रकार के इनडोर प्लांट्स, फ्लावरपॉट्स और गार्डनिंग एक्सेसरीज के कॉरपोरेट गिफ्टिंग कारोबार में भी है। इफको किसान

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी
लॉटरी त्वरित खेल

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) बाजार नियामक सेबी ने बृहस्पतिवार को व्यक्तियों के अलावा निवासी भारतीयों को विदेशी पोर्टफोलियो निवेशकों (एफपीआई) का हिस्सा बनने की इजाजत दी, जो आईएफएससी में वैकल्पिक निवेश कोष (एआईएफ) के रूप में पंजीकृत हैं। इससे अंतरराष्ट्रीय वित्तीय सेवा केंद्रों (आईएफएससी) में स्थापित एआईएफ द्वारा एफपीआई मार्ग से भारतीय प्रतिभूति बाजारों में निवेश की सुविधा मिल सकेगी। ऐसे निवासी भारतीय एफपीआई के प्रायोजक या प्रबंधक होंगे और एफपीआई में उनका योगदान कुछ शर्तों के अधीन होगा। सेबी ने एक अधिसूचना में कहा, ‘‘व्यक्तियों के अलावा निवासी भारतीय भी आवेदक के घटक हो सकते हैं।’’ हालांकि, इसके