इलेक्ट्रॉनिक खेल json

इलेक्ट्रॉनिक खेल json

time:2021-10-29 01:25:33 विदेशों में भाव टूटने से सोयाबीन, पामोलीन में गिरावट Views:4591

होली रमीइलेक्ट्रॉनिक खेल json betway फ्री बेट,fun88 पोकर APK,lovebet 5 बोनस,lovebet घंटा,lovebet टेलीग्राम ग्रुप,3 रील स्लॉट मुफ्त ऑनलाइन,बैकारेट और संभावना,हजारों में से बैकारेट,बेस्ट ऑफ फाइव एक्सेल,बुकमेकर ऑड्स सिस्टम,कैसीनो l'auberge बैटन रूज,सर्वश्रेष्ठ प्रतिष्ठा के साथ शतरंज और कार्ड,उर्दू में क्रिकेट की किताब,क्रिकेट कल,यूरोपीय चैम्पियनशिप,फुटबॉल सट्टेबाजी का ज्ञान,जी रम्मी,खुश किसान हम्फ्री,मैं प्यार करता हूँ,जैकबॉक्स गेम्स जूम,ला लीगा फुटबॉल चैलेंज,लाइव कैसीनो ज्यूरिख,लॉटरी खेला रात,लूडो ज़िप,ऑनलाइन कैसीनो 18 साल पुराना,ऑनलाइन गेम रोबोक्स,ऑनलाइन स्लॉट कानूनी,पोकर 007 फिल्म,पोकर जीतने वाले हाथ क्रम में,रूले तेलुगु में,रम्मी डेली प्रो,रश फिशिंग की वेस्ट,असली पैसे के लिए स्लॉट खेल,खेल ऊ,तीन पत्ती गेम डाउनलोड,नवीनतम यूरोपीय कप फुटबॉल रैंकिंग,आभासी क्रिकेट क्लेटन ओवल,वाइल्डज़ डाउन,ipl सबसे तेज शतक,करीना न्यूज़,क्रिकेट लाइव वीडियो,छोटा लॉटरी,पांच स्कोर मार्क सिक्स लॉटरी,बरसात मौसम,रमी रियल कैश,स्टेटस धोखेबाज, .विदेशों में भाव टूटने से सोयाबीन, पामोलीन में गिरावट

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) विदेशी बाजारों में कमजोर रुख से दिल्ली मंडी में बृहस्पतिवार को सीपीओ एवं पामोलीन तथा सोयाबीन में गिरावट का रुख रहा। दूसरी ओर देश में खुदरा मांग को पूरा करने के लिए छोटी पेराई मिलों की मांग बढ़ने से सरसों तेल तिलहन के भाव में सुधार देखने को मिला। बाकी तेल-तिलहनों के भाव पूर्वस्तर पर बने रहे।

सूत्रों ने कहा कि मलेशिया एक्सचेंज में 0.8 प्रतिशत की गिरावट है जबकि फिलहाल शिकॉगो एक्सचेंज सामान्य रहा। उन्होंने कहा कि विदेशी बाजारों में गिरावट के बीच स्थानीय तेल-तिलहन कीमतों में भी गिरावट आई।

बाजार के जानकारों ने कहा कि इंडोनेशिया ने सीपीओ और पामोलीन पर निर्यात कर में 34 डॉलर प्रति टन की वृद्धि कर दी है और रुपये में यह वृद्धि 255 रुपये प्रति क्विन्टल की है।

सूत्रों ने कहा कि 29 अक्टूबर को आयात शुल्क मूल्य का निर्धारण किया जायेगा और इस शुल्क को खाद्य तेलों के बाजार भाव के हिसाब से निर्धारित किया जाना चाहिये जिससे आयातकों को अपने सौदों को लेकर निश्चिन्तता और आसानी रहती है। इससे तेल की उपलब्धता बढ़ेगी। आयात शुल्क मूल्य को बाजार भाव के अनुरूप रखने की इसलिए भी आवश्यकता है क्योंकि शुल्क दरें पहले ही काफी कम हैं।

सूत्रों ने कहा कि देश में लगभग 5,000 सरसों की छोटी मिलें हैं जो खुदरा मांग को पूरा करती हैं। जाड़े की सरसों मांग बढ़ना शुरु हो गई है और अब इन छोटे तेल मिलों की दैनिक मांग लगभग 60 हजार बोरी से बढ़कर 80,000 बोरी की हो गयी है। मांग बढ़ने के साथ साथ सरसों की उपलब्धता निरंतर कम होती जा रही है। यह उपलब्धता दीपावाली के बाद और कम हो जायेगी। सरसों का जो भी थोड़ा बहुत स्टॉक है वह बड़े किसानों के पास ही रह गया है। सरसों की अगली फसल में लगभग साढ़े चार महीने का समय है क्योंकि बिजाई देर से हुई है।

उन्होंने कहा कि सरकार को तेल कीमतों में गिरावट का लाभ उपभोक्ताओं तक पहुंचाने की व्यवस्था करनी चाहिये।

सूत्रों ने कहा कि सोयाबीन की नई फसल की आवक के समय वायदा कारोबार में भाव कम चल रहा है। ऐसा जानबूझकर इसलिए किया जाता है ताकि किसानों को सस्ते में अपनी उपज बेचने के लिए मजबूर किया जा सके। सूत्रों ने कहा कि सरकार को सरसों की ही तरह सोयाबीन के वायदा कारोबार पर रोक लगाना चाहिये ताकि सट्टेबाजों पर अंकुश लगाया जा सके।

उन्होंने कहा कि किसी भी राज्य को मूंगफली और सोयाबीन पर ‘स्टॉक लिमिट’ (स्टॉक रखने की सीमा) नहीं लगाना चाहिये। महाराष्ट्र और मध्य प्रदेश ने किसानों के हित के लिए पहले से ही इसे लागू करने से मना कर दिया है।

सूत्रों ने कहा कि देशी तेल पर ‘स्टॉक लिमिट’ लगाने का कोई औचित्य भी नहीं है क्योंकि गरीब उपभोक्ता सोयाबीन और पामोलीन जैसे सस्ते आयातित तेल अपना चुके हैं और इन तेलों पर ‘स्टॉक लिमिट’ लागू नहीं है। सरकार को इन आयातित तेलों के भाव की निगरानी रखनी होगी कि ये उपभोक्ताओं को किस दर पर बेचा जा रहा है और उन्हें गिरावट का लाभ मिल रहा है या नहीं।

नये फसल की आवक के कारण बिनोलातेल में भी गिरावट है। जबकि सामान्य कारोबार के बीच मूंगफली तेल तिलहन के भाव पूर्वस्तर पर रहे।

बाजार में थोक भाव इस प्रकार रहे- (भाव- रुपये प्रति क्विंटल)

सरसों तिलहन - 8,950 - 8,980 (42 प्रतिशत कंडीशन का भाव) रुपये।

मूंगफली - 6,150 - 6,235 रुपये।

मूंगफली तेल मिल डिलिवरी (गुजरात)- 13,950 रुपये।

मूंगफली साल्वेंट रिफाइंड तेल 2,040 - 2,165 रुपये प्रति टिन।

सरसों तेल दादरी- 17,940 रुपये प्रति क्विंटल।

सरसों पक्की घानी- 2,705 -2,745 रुपये प्रति टिन।

सरसों कच्ची घानी- 2,780 - 2,890 रुपये प्रति टिन।

तिल तेल मिल डिलिवरी - 15,500 - 18,000 रुपये।

सोयाबीन तेल मिल डिलिवरी दिल्ली- 13,950 रुपये।

सोयाबीन मिल डिलिवरी इंदौर- 13,650 रुपये।

सोयाबीन तेल डीगम, कांडला- 12,450

सीपीओ एक्स-कांडला- 11,430 रुपये।

बिनौला मिल डिलिवरी (हरियाणा)- 13,500 रुपये।

पामोलिन आरबीडी, दिल्ली- 12,980 रुपये।

पामोलिन एक्स- कांडला- 11,800 (बिना जीएसटी के)।

सोयाबीन दाना 5,200 - 5,350, सोयाबीन लूज 5,050 - 5,150 रुपये।

मक्का खल (सरिस्का) 3,825 रुपये।

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

Two’s company, three’s a cloud: the haze of Srei’s curious transactions with a trio of businessmen
Under the lens

Two’s company, three’s a cloud: the haze of Srei’s curious transactions with a trio of businessmen

6 mins read
As crude likely to hit 2008 highs, get ready to fork out INR150 for a litre of petrol
Oil prices

As crude likely to hit 2008 highs, get ready to fork out INR150 for a litre of petrol

7 mins read
3 Idiots clicked right, but India needs its own Samsung and Squid Game to hook global audience
Brands

3 Idiots clicked right, but India needs its own Samsung and Squid Game to hook global audience

12 mins read

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) प्रौद्योगिकी कंपनी हनीवेल ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने मरीजों के लिए रियल टाइम स्वास्थ्य निगरानी प्रणाली (आरटीएचएमएस) पेश की है। यह प्रणाली एक स्मार्ट एज-टू-क्लाउड संचार मंच है, जो मरीज और उसकी देखभाल करने वाले के बीच एक सेतु का काम करती है। यह प्रणाली मरीजों की बेहतर देखभाल, स्वास्थ्य कर्मियों की उत्पादकता बढ़ाने एवं प्रक्रिया दक्षता को सक्षम करने के लिए हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को एकीकृत करती है। आरटीएचएमएस महत्वपूर्ण कार्यों को डिजिटल और स्वचालित करके, अस्पताल के प्रशासनिक कार्यों को 35 प्रतिशत तक कम कर सकता है। हनीवेल सेफ्टी एंड प्रोडक्टिविटी सॉल्यूशंस इंडियानयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) सरकार को एनएलसी और नालको समेत पांच केंद्रीय लोक उपक्रमों से लाभांश के रूप में 413 करोड़ रुपये मिले हैं। निवेश और लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) ने ट्विटर पर लिखा है, ‘‘सरकार को एंट्रिक्स कॉरपोरेशन और एनएलसी से लाभांश किस्त के रूप में क्रमश: 78 करोड़ रुपये और 165 करोड़ रुपये मिले हैं।’’ इसके अलावा एनबीसीसी, कोचीन शिपयार्ड लि. और नालको ने लाभांश किस्त के रूप में क्रमश: 52 करोड़ रुपये, 24 करोड़ रुपये और 94 करोड़ रुपये दिये। दीपम की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार चालू वित्त वर्ष में अबतक सरकार को केंद्रीयकोयला मंत्रालय ने कहा, बिजली उत्पादन संयंत्रों को कोयले की आपूर्ति में लगातार बढ़ोतरी

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) वाहनों के कल-पुर्जे बनाने वाली हीरो मोटर्स ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने जापान की यामाहा मोटर कंपनी के साथ एक संयुक्त उद्यम समझौता किया है। इसके तहत ई-साइकिल की मोटर बनाने के लिए एक विनिर्माण इकाई की स्थापना की जाएगी। हीरो मोटर्स ने एक बयान में कहा कि दोनों कंपनियों के बोर्ड ने इस समझौते को मंजूरी दे दी है, जिसके तहत वैश्विक बाजारों के लिए ई-साइकिल ड्राइव मोटर बनाने के लिए भारत में एक विनिर्माण इकाई स्थापित की जाएगी। हीरो और यामाहा ने ई-साइकिल खंड में साथ मिलकर काम करने के लिए 2019वाशिंगटन, 28 अक्टूबर (एपी) अमेरिकी अर्थव्यवस्था की वृद्धि दर जुलाई-सितंबर तिमाही में धीमी पड़कर दो प्रतिशत रही। पिछले साल महामारी के कारण आई मंदी के बाद से जारी पुनरूद्धार के दौरान किसी तिमाही में यह सबसे कम वृद्धि दर है। वाणिज्य विभाग ने बृहस्पतिवार को रिपोर्ट में यह जानकारी दी। उसने कहा कि पिछली दो तिमाहियों में वृद्धि दर 6 प्रतिशत से अधिक रही थी और पिछली तिमाही की वृद्धि दर उससे काफी कम रही। हालांकि, कोविड संक्रमण के मामलों में कमी, टीकाकरण की दर बढ़ने और उपभोक्ता खर्च बढ़ने को देखते हुए कई अर्थशास्त्रियों का मानना है कि जीडीपी (सकलअजीम प्रेमजी ने पिछले वित्त वर्ष में हर दिन 27 करोड़ रु दान किए

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) केंद्रीय विज्ञान और प्रौद्योगिकी राज्य मंत्री डॉ. जितेंद्र सिंह ने कहा कि देश अगले 25 वर्ष में एक प्रमुख कृषि तथा वैज्ञानिक शक्ति के रूप में उभरेगा। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार के तहत देश में कृषि क्षेत्र ‘स्वर्ण युग’ में है। किसानों को संबोधित करते हुए, सिंह ने उन्हें आश्वासन दिया कि विज्ञान आधारित कृषि नवाचारों को खोजने के लिए सरकार की अनूठी पहल न केवल किसानों की आय को दोगुना करेगी बल्कि 25 साल बाद आजादी के 100वें वर्ष में भारत को एक प्रमुख कृषि और वैज्ञानिकनयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड ने बृहस्पतिवार को खनन क्षेत्रों के आसपास के गांवों के युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण देने के लिए केंद्रीय पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपेट), भुवनेश्वर के साथ दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए। कोयला मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत इन दो पहलों- ‘उड़ान’ और ‘सहयोग’ से खनन क्षेत्रों के आसपास स्थित गांवों के 40 युवाओं को फिटर / इलेक्ट्रीशियन ट्रेडों में दो साल का पूर्णकालिक आईटीआई प्रशिक्षण और 30 दिव्यांगजनों को छह महीने के कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने में सहायता मिलेगी। महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेडइंडियन बैंक को दूसरी तिमाही में एकल आधार पर 1,089.17 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
बैकारेट में पानी कैसे खींचे

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) सरकार को एनएलसी और नालको समेत पांच केंद्रीय लोक उपक्रमों से लाभांश के रूप में 413 करोड़ रुपये मिले हैं। निवेश और लोक संपत्ति प्रबंधन विभाग (दीपम) ने ट्विटर पर लिखा है, ‘‘सरकार को एंट्रिक्स कॉरपोरेशन और एनएलसी से लाभांश किस्त के रूप में क्रमश: 78 करोड़ रुपये और 165 करोड़ रुपये मिले हैं।’’ इसके अलावा एनबीसीसी, कोचीन शिपयार्ड लि. और नालको ने लाभांश किस्त के रूप में क्रमश: 52 करोड़ रुपये, 24 करोड़ रुपये और 94 करोड़ रुपये दिये। दीपम की वेबसाइट पर उपलब्ध जानकारी के अनुसार चालू वित्त वर्ष में अबतक सरकार को केंद्रीय

ऑनलाइन स्लॉट्स

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) जम्मू-कश्मीर के उपराज्यपाल मनोज सिन्हा ने बृहस्पतिवार को कहा कि सरकार प्रतिकूल मौसम की वजह से हुए नुकसान के लिए किसानों को पूरी वित्तीय सहायता मुहैया कराएगी। एक सरकारी बयान में कहा गया है कि केंद्रीय कृषि मंत्री नरेंद्र सिंह तोमर और उपराज्यपाल सिन्हा ने श्रीनगर में आयोजित एक सेब महोत्सव का ‘ऑनलाइन’ उद्घाटन किया। सिन्हा ने इस मौके आश्वासन दिया, ‘‘जम्मू-कश्मीर में प्रतिकूल मौसम के कारण हुए नुकसान के लिए केंद्र शासित प्रदेश के प्रशासन द्वारा किसानों को पूर्ण वित्तीय

बैकरेट गेम ग्राफिक्स

इंदौर, 28 अक्टूबर (भाषा) स्थानीय संयोगिता गंज अनाज मंडी में बृहस्पतिवार को चना कांटा 25 रुपये और मसूर के भाव में 50 रुपये प्रति क्विंटल की वृद्धि हुई। मसूर की दाल 50 रुपये एवं तुअर (अरहर) की दाल 100 रुपये प्रति क्विंटल महंगी बिकी।दलहन चना (कांटा) 5100 से 5150,मसूर 7200 से 7250,तुअर (अरहर) निमाड़ी 5300 से 6100, तुअर सफेद (महाराष्ट्र) 6300 से 6400, तुअर (कर्नाटक) 6500 से 6700,मूंग 6900 से 7200, मूंग हल्की 6100 से 6500,उड़द 7000 से 7300, उड़द नया 5500 से 6500, उड़द हल्की 2500 से 4500 रुपये प्रति क्विंटल।दालतुअर (अरहर) दाल सवा नंबर 8600 से 8700,तुअर

ऋण निकासी

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड ने बृहस्पतिवार को खनन क्षेत्रों के आसपास के गांवों के युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण देने के लिए केंद्रीय पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपेट), भुवनेश्वर के साथ दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए। कोयला मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत इन दो पहलों- ‘उड़ान’ और ‘सहयोग’ से खनन क्षेत्रों के आसपास स्थित गांवों के 40 युवाओं को फिटर / इलेक्ट्रीशियन ट्रेडों में दो साल का पूर्णकालिक आईटीआई प्रशिक्षण और 30 दिव्यांगजनों को छह महीने के कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने में सहायता मिलेगी। महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड

क्रिकेट छोटा भीम

इंदौर, 28 अक्टूबर (भाषा) स्थानीय सर्राफा बाजार में बृहस्पतिवार को सोना 225 रुपये प्रति 10 ग्राम एवं चांदी के भाव में 150 रुपये प्रति किलोग्राम की तेजी आयी। कारोबारियो के अनुसार मूल्यवान धातुओं के औसत भाव इस प्रकार रहे।सोना- 49475 रुपये प्रति 10 ग्राम,चांदी- 66000 रुपये प्रति किलोग्राम,चांदी सिक्का- 775 रुपये प्रति नग।

संबंधित जानकारी
तेलुगु में क्रिकेट जीके

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड ने बृहस्पतिवार को खनन क्षेत्रों के आसपास के गांवों के युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण देने के लिए केंद्रीय पेट्रोकेमिकल्स इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी (सिपेट), भुवनेश्वर के साथ दो समझौतों पर हस्ताक्षर किए। कोयला मंत्रालय ने एक बयान में कहा कि कॉरपोरेट सामाजिक उत्तरदायित्व के तहत इन दो पहलों- ‘उड़ान’ और ‘सहयोग’ से खनन क्षेत्रों के आसपास स्थित गांवों के 40 युवाओं को फिटर / इलेक्ट्रीशियन ट्रेडों में दो साल का पूर्णकालिक आईटीआई प्रशिक्षण और 30 दिव्यांगजनों को छह महीने के कौशल प्रशिक्षण कार्यक्रम में शामिल होने में सहायता मिलेगी। महानदी कोलफील्ड्स लिमिटेड

गरम जानकारी
कैसिनो मीनिंग इन हिंदी

नयी दिल्ली, 28 अक्टूबर (भाषा) प्रौद्योगिकी कंपनी हनीवेल ने बृहस्पतिवार को कहा कि उसने मरीजों के लिए रियल टाइम स्वास्थ्य निगरानी प्रणाली (आरटीएचएमएस) पेश की है। यह प्रणाली एक स्मार्ट एज-टू-क्लाउड संचार मंच है, जो मरीज और उसकी देखभाल करने वाले के बीच एक सेतु का काम करती है। यह प्रणाली मरीजों की बेहतर देखभाल, स्वास्थ्य कर्मियों की उत्पादकता बढ़ाने एवं प्रक्रिया दक्षता को सक्षम करने के लिए हार्डवेयर और सॉफ्टवेयर को एकीकृत करती है। आरटीएचएमएस महत्वपूर्ण कार्यों को डिजिटल और स्वचालित करके, अस्पताल के प्रशासनिक कार्यों को 35 प्रतिशत तक कम कर सकता है। हनीवेल सेफ्टी एंड प्रोडक्टिविटी सॉल्यूशंस इंडिया